Site Feedback

ghazlong ke duniya

Share:

Comments


दुश्मनों ने तो ज़ख्म देने ही थे, ये उनकी फितरत थी
दोस्तों ने भी जब दगा की, यह हमारी किस्मत थी!!

Add a comment