Site Feedback
Important Notice: Feb 1st from 05:00 to 08:00 (UTC) , italki will be down for scheduled maintenance. If you have scheduled sessions during this time, read our Announcement

WELL KNOWN FESTIVAL OF INDIA - DIWALI दिवाली पर आपकी राय

well-known of the Indian festivals: it is celebrated throughout India and world.
स्वच्छता प्रकाश का पर्व है ।अंधकार पर प्रकाश की विजय का यह पर्व समाज में उल्लास , भाईचारे प्रेम का संदेश फैलाता है ।भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है |

दीपावली

Share:

Comments

दिवाली हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है । दिवाली कार्तिक मास की अमावस्या को मनायी जाती है । अधिकतर यह अंग्रेज़ी कैलन्डर के अनुसार अक्तूबर या नवम्बर महीने में पड़ती है । दीपावली दीपों का त्योहार है | इसे दीवाली या दीपावली भी कहते हैं । 'दीपावली' संस्कृत का शब्द है इसका अर्थ है दीपकों की अवलि अर्थात्‌ लड़ी । दिवाली अन्धेरे से रोशनी में जाने का प्रतीक है | भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है | दिवाली यही चरितार्थ करती है - असतो माऽ सद्गमय , तमसो माऽ ज्योतिर्गमय । दीप जलाने की प्रथा के पीछे ३ अलग-अलग कारण या कहानियाँ हैं।
श्री राम के रावण को मार कर अयोध्या लौटने की याद में
श्री कृष्ण के नरकासुर को मारने की याद में
यह दो कहानियाँ दुष्टता की नाश का वर्णन करती हैं। पर इन दोनों कहानियों से बिलकुल भिन्न, दिये इसलिये भी जलाये जाते हैं, कि धन की देवी लक्ष्मी को घर के अन्दर आने का रास्ता मालूम हो!

दीप जलाने की प्रथा के पीछे अलग-अलग कारण या कहानियाँ हैं।
राम भक्तों के अनुसार दीवाली वाले दिन अयोध्या के राजा राम लंका के अत्याचारी राजा रावण का वध कर के अयोध्या लौटे थे। उनके लौटने कि खुशी मे आज भी लोग यह पर्व मनाते है।
कृष्ण भक्तिधारा के लोगों का मत है कि इस दिन भगवान श्री कृण्ण ने अत्याचारी राजा नरकासुर का वध किया था । इस नृशंस राक्षस के वध से जनता में अपार हर्ष फैल गया और प्रसन्नता से भरे लोगों ने घी के दीए जलाए । एक पौराणिक कथा के अनुसार विंष्णु ने नरसिंह रुप धारणकर हिरण्यकश्यप का वध किया था तथा इसी दिन समुद्रमंथन के पश्चात लक्ष्मी व धन्वंतरि प्रकट हुए जैन मतावलंबियों के अनुसार चौबीसवें तीर्थंकर महावीर स्वामी का निर्वाण दिवस भी दीपावली को ही है ।

 दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है । कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है । लोग अपने घरों , दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं । घरों में मरम्मत , रंग-रोगन ,सफ़ेदी आदि का कार्य होने लगता हैं । लोग दुकानों को भी साफ़ सुथरा का सजाते हैं । बाज़ारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है । दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले , बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं ।
सिक्खों के लिए भी दिवाली महत्वपूर्ण है क्यों कि इसी दिन ही अमृत्सर में १५७७ में स्वर्णमन्दिर का शिलान्यास हुआ था। और इसके अलावा १६१९ में दिवाली के दिन सिक्खों के छ्टे गुरु हरगोबिन्द सिंघ जी को जेल से रिहा किया गया था।
नेपालियों के लिए यह त्योहार इसलिए महान है क्यों कि इस दिन से [नेपाल संवत]] में नया वर्ष शरू होता है।

दीपावली एक दिन का पर्व नहीं अपितु पर्वों का समूह है । दशहरे के पश्चात ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है । लोग नए-नए वस्त्र सिलवाते हैं । दीपावली से दो दिन पूर्व धनतेरस का त्योहार आता है । इस दिन बाज़ारों में चारों तरफ़ जनसमूह उमड़ पड़ता है । बरतनों की दुकानों पर विशेष साज-सज्जा व भीड़ दिखाई देती है । धनतेरस के दिन बरतन खरीदना शुभ माना जाता है अतैव प्रत्येक परिवार अपनी-अपनी आवश्यकता अनुसार कुछ न कुछ खरीदारी करता है । इस दिन तुलसी या घर के द्वार पर एक दीपक जलाया जाता है ।
इससे अगले दिन नरक चतुरदशी या छोटी दीपावली होती है । इस दिन यम पूजा हेतु दीपक जलाए जाते हैं । अगले दिन दीपावली आती है । इस दिन घरों में सुबह से ही तरह-तरह के पकवान बनाए जाते हैं । बाज़ारों में खील-बताशे , मिठाइयाँ ,खांड़ के खिलौने , लक्ष्मी-गणेश आदि की मूर्तियाँ बिकने लगती हैं । स्थान-स्थान पर आतिशबाजियों और पटाखों की दुकानें सजी होती हैं । सुबह से ही लोग रिश्तेदारों , मित्रों , सगे-संबंधियों के घर मिठाइयाँ व उपहार बाँटने लगते हैं ।

दीपावली की शाम लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा की जाती है । पूजा के बाद लोग अपने-अपने घरों के बाहर दीपक व मोमबत्तियाँ जलाकर रखते हैं । चारों ओर चमकते दीपक अत्यंत सुंदर दिखाई देते हैं । रंग-बिरंगे बिजली के बल्बों से बाज़ार व गलियाँ जगमगा उठते हैं । बच्चे तरह-तरह के पटाखों व आतिशबाज़ियों का आनंद लेते हैं । रंग-बिरंगी फुलझड़ियाँ , आतिशबाज़ियाँ व अनारों के जलने का आनंद प्रत्येक आयु के लोग लेते हैं । देर रात तक कार्तिक की अँधेरी रात पूर्णिमा से भी से भी अधिक प्रकाशयुक्त दिखाई पड़ती है ।

दीपावली से अगले दिन गोवर्धन पर्वत अपनी अँगुली पर उठाकर इंद्र के कोप से डूबते ब्रजवासियों को बनाया था । इसी दिन लोग अपने गाय-बैलों को सजाते हैं तथा गोबर का पर्वत बनाकर पूजा करते हैं । अगले दिन भाई दूज का पर्व होता है ।दीपावली के दूसरे दिन व्यापारी अपने पुराने बहीखाते बदल देते है । वे दुकानों पर लक्ष्मी पूजन करते हैं । उनका मानना है कि ऐसा करने से धन की देवी लक्ष्मी की उन पर विशेष अनुकंपा रहेगी । कृषक वर्ग के लिये इस पर्व का विशेष महत्त्व है । खरीफ़ की फसल पककर तैया हो जाने से कृषकों के खलिहान समृद्ध हो जाते हैं । कृषक समाज अपनी समद्धि का यह पर्व उल्लासपूर्वक मनाता हैं ।

परंपरा
अंधकार पर प्रकाश की विजय का यह पर्व समाज में उल्लास , भाईचारे व प्रेम का संदेश फैलाता है । यह पर्व सामूहिक व व्यक्तिगत दोनों तरह से मनाए जाने वाला ऐसा विशिष्ट पर्व है जो धार्मिक , सांस्कृतिक व सामाजिक विशिष्टता रखता है । हर प्रांत या क्षेत्र में दिवाली मनाने के कारण एवं तरीके अलग हैं पर सभी जगह कई पीढ़ियों से यह त्योहार चला आ रहा है | लोगों में दीवाली की बहुत उमंग होती है | लोग अपने घरों का कोना-कोना साफ़ करते हैं ; नये कपड़े पहनते हैं । सब मिठाइयों के उपहार एक दूसरे को बाँटते हैं, एक दूसरे से मिलते हैं । घर-घर में सुन्दर रंगोली बनायी जाती है, दिये जलाए जाते हैं और आतिशबाजी की जाती है | बड़े छोटे सभी इस त्योहार में भाग लेते हैं |यह त्योहार सिक्खों और जैनों के लिये भी महत्वपूर्ण है। जैनों के लिये इसलिए कि इस दिन महावीर जी ने मोक्ष (या निर्वाण) पाया था। और सिक्खों के लिये इसलिए कि अमृत्सर में १ही ५७७ में स्वर्णमन्दिर का शिलान्यास हुआ था। और इसके अलावा १६१९ में दिवाली के दिन सिक्खों के छ्टे गुरु हरगोबिन्द सिंघ जी को जेल से रिहा किया गया था।

Add a comment