Site Feedback

पता नहीं क्यों!

पता नहीं क्यों, चलते चलते आदमी अलग अलग हो गया,आपस में सिर्फ़ स्मरण बचा,आदमी को आगे चल पड़ेगा कया?

Share:

 

1 comment

    Please enter between 0 and 2000 characters.

     

    Corrections

     

    पता नहीं क्यों!

    पता नहीं क्यों, चलते-चलते आदमी अलग-अलग हो गये,आपस में सिर्फ़ स्मरण बचा,आदमी को आगे चल पड़ेगा क्या?

    Write a correction

    Please enter between 25 and 8000 characters.

     

    More notebook entries written in Hindi

    Show More