Site Feedback

True stories from my life: Wrestling a River मेरी जीवान की सची कहानियाँ: नद

Once I lived near a river. During the spring it started to rain a lot, and the river became flooded. So, one day I went to the river and challenged her to a duel. I removed my shirt (I didn't want it to get wet) and entered the raging waters.

एक बार, मैं नदी के पास रहता था। वसन्त में बारिश लगातर होता था, और नदी जलप्लावित हो गया। तो, एक दिन, मैंने नदी के पास जाकर उसे सामना किया। मैंने अपनी कमीज़ को निकालकर (मैं उसे गीला हो जाना नहीं चाहता था।) क्रोधी पानी में प्रवेश किया।

It was a fierce battle. I was trying to resist the tide of the water, and she was trying to push me off into the depths.

वह तीव्र लड़ाई था। मैं पानी की लहरें रोकना कोशिश कर रहा था, और वह मुझे नदीं की गहराई धक्का देना कोशिश कर रही थी।

In the end, she pushed me, and I had to climb up the side of a mountain to escape the waters.

अंत में, उसने मुझे धक्का दिया, और मुझे पानी से निकलने के लिए, मुझे पहाड़ चढ़ना पड़ता था।

But I'm confident that one day I will win.

लेकिन मैं बिलकुल विश्रम्भी हूँ कि एक दिन मैं जीतूँगा!

Share:

 

0 comments

    Please enter between 0 and 2000 characters.

     

    Corrections

    True stories from my life: Wrestling a River मेरी जीन की सच्ची कहानियाँ:

    Once I lived near a river. During the spring it started to rain a lot, and the river became flooded. So, one day I went to the river and challenged her to a duel. I removed my shirt (I didn't want it to get wet) and entered the raging waters.

    एक बार समय, मैं नदी के पास रहता था। वसन्त में ज़ोरदार बारिश लगातर होता था शुरू हुई (होने लगी) और नदी जलप्लावित हो ग (या बाढ़ आ गयी)। तो, एक दिन, मैंने नदी के पास जाकर उसका सामना किया। मैंने अपनी कमीज़ को निकाला (मैं उसे गीला हो जाना करना नहीं चाहता था।) और क्रोधी पानी तेज़ बहाव में प्रवेश किया (उतर गया)।

    It was a fierce battle. I was trying to resist the tide of the water, and she was trying to push me off into the depths.

    वह तीव्र लड़ाई थी। मैं पानी की लहरें रोकने की कोशिश कर रहा था, और वह मुझे नदी की गहराई में धक्का देने की  कोशिश कर रही थी।

    In the end, she pushed me, and I had to climb up the side of a mountain to escape the waters.

    अंत में, उसने मुझे धक्का (दे ही) दिया, और मुझे पानी से निकलने के लिए, मुझे पहाड़ चढ़ना पड़ता था पड़ा।

    But I'm confident that one day I will win.

    लेकिन मैं बिलकुल विश्रम्भी विश्वस्त हूँ कि एक दिन मैं जीतूँगा!

    Write a correction

    Please enter between 25 and 8000 characters.

     

    More notebook entries written in Hindi

    Show More